Monday, March 29, 2010

भिखारी ठाकुर सम्मान समारोह की तस्वीर

आरा में 27 मार्च 2010 को भिखारी ठाकुर सम्मान समारोह में भिखारी ठाकुर सम्मान प्राप्त करने के बाद गीत गातीं भोजपुरी गायिका व अभिनेत्री प्रतिभा सिंह

भिखारी ठाकुर सम्मान समारोह की तस्वीर

आरा में 27 मार्च 2010 को भिखारी ठाकुर सम्मान समारोह में भोजपुरी गायिका व अभिनेत्री प्रतिभा सिंह को भिखारी ठाकुर सामाजिक शोध संस्थान की ओर से भिखारी ठाकुर सम्मान प्रदान किये जाने के अवसर पर सम्बोधित करते संस्थान के अध्यक्ष नरेन्द्र सिंह

भिखारी ठाकुर सम्मान समारोह की तस्वीर

आरा में 27 मार्च 2010 को भिखारी ठाकुर सम्मान समारोह में आरा की सांसद मीना सिंह भोजपुरी गायिका व अभिनेत्री प्रतिभा सिंह को शाल, प्रमाण पत्र, स्मृति चिह्न व पुरस्कार राशि आदि प्रदान कर सम्मानित करती हुईं

Saturday, March 27, 2010

प्रतिभा सिंह को दिया गया भिखारी ठाकुर सम्मान


आराः भोजपुरी की विख्यात गायिका और अभिनेत्री प्रतिभा सिंह को भिखारी ठाकुर सम्मान-2010 प्रदान किया गया। 27 मार्च की देश शाम प्रारम्भ हुए इस समारोह में आरा की जदयू की सांसद मीना सिंह ने उन्हें यह सम्मान राशि, मानपत्र, स्मृति-फलक एवं शाल प्रदान किया। यह भिखारी ठाकुर सामाजिक शोध संस्थान, भोजपुर, आरा द्वारा एक भव्य लोक-संगीत समारोह में प्रदान किया गया है। इस अवसर पर मीना सिंह ने कहा कि प्रतिभा सिंह ने अपने गायन से भोजपुरी के लोकरंग को बचाये रखा है। वे लोकप्रियता पाने के लिए अश्लीलता की बैसाखियों का सहारा नहीं लेतीं। वे हमारी पुरातन लोक धुनों को भी बखूबी गाती हैं और आधुनिक गीतों से भी आज के युवाओं की रुचि को संस्कारित कर रही हैं। लोक और आधुनिकता को संगम उनके यहां मिलेगा। वे फिल्मों में भी काम कर रही हैं और उसमें वे कामयाब हों हमारी यह शुभकामना है।
उन्होंने कहा कि भिखारी ठाकुर सामाजिक शोध संस्थान भोजपुरी लोक-कला और संस्कृति को संरक्षण देने में लगे इस संस्थान का प्रयास सराहनीय है। उन्होंने इस अवसर पर संस्थान के पास की सड़क को उन्नत करने के लिए तीन लाख रुपये के सरकारी अनुदान की घोषणा की।
संस्थान के अध्यक्ष नरेन्द्र सिंह ने बताया कि कलाकारों, पत्रकारों और साहित्यकारों के सहयोग से यह संस्थान बिना किसी सरकारी सहायता के वर्ष 2002 से वर्ष में चार कार्यक्रम करता आ रहा है। उन्होंने प्रतिभा सिंह का परिचय देते हुए कहा कि पिछले एक दशक से भोजपुरी गायकी में अपने गायन से अपना विशिष्ट स्थान बना पाने में कामयाब रही हैं। उनके एक दर्जन से अधिक कैसेट व सीडी जारी हुए हैं। उन्होंने अभिनय व पार्श्व गायन की दुनिया में कदम रखा है और 'भाई होखे त भरत नियन', 'बहिना तोहरे खातिर' आदि फिल्मों में अभिनय काम किया है। कुछ और फिल्मों में वे गायन और अभिनय कर रही हैं जिनमें 'आई हो दादा' और 'माटी मांगे खून' प्रमुख हैं। वे बलिया जिले के रोहुआं-तिवारी गांव की रहने वाली हैं। उन्होंने शास्त्रीय संगीत की भी विधिवत तालीम ली है। देश भर में सैकड़ों स्टेज शो करने वाली प्रतिभा को इसके पहले आकांक्षा संस्कृति सम्मान मिला है। उनके कार्यक्रम व इंटरव्यू ईटीवी, महुआ, ताजा़ टीवी, अहिंसा, दूरदर्शन आदि पर भी आते रहे हैं। पोलिया से बचाव के अभियान के यूनिसेफ और पश्चिम बंगाल सरकार साझा जागरुकता अभियान में उनके गीतों का कैसेट भोजपुरी में जारी हुआ था जो अब भी हिन्दी उर्दू भाषी बहुल क्षेत्रों में पोलियो बूथों पर बजाया जाता है। इधर रेडियो पर मलेरिया से सावधान करने वाले जिंगल में भी उनकी आवाज सुनायी देती है।
संस्थान की ओर से कमलेश पाण्डेय, डॉ.एसके विष्णु, डॉ.केबी सिंह ने भी संबोधित किया।
इस अवसर पर प्रतिभा सिंह ने कहा कि भोजपुरी संगीत बेजोड़ है। हमारे पास हर संस्कार के गीत हैं जो यह बताता है कि हम कितने संगीतमय हैं। हमें विलुप्त होते अपने संस्कार गीतों को बचाना है और उसके लिए जरूरी है कि लोक कलाकारों को इस बात के लिए प्रोत्साहित किया जाये कि वे अपने जीवन में संगीत को बचाये रखें। हमें अपने लोकसंगीत की शक्ति को पहचानना होगा वरना वह आधुनिकता की अंधी दौड़ में कहीं खो जायेगा या फिर अपनी मौलिकता खो देगा। इस अवसर पर उन्होंने अपने कुछ गीत भी सुनाये। उसके बाद रात भर चले चैता के कार्यक्रम में आसपास के गावों से आये लोक-कलाकारों को सात गोल ने अपने कार्यक्रम प्रस्तुत किये जिनमें रामाज्ञा राम विशेष तौर पर शामिल थे जो बिहारी ठाकुर की मंडली में थे।

Tuesday, March 23, 2010

प्रतिभा सिंह को भिखारी ठाकुर सम्मान 27 मार्च को आरा में

कोलकाताः भोजपुरी की विख्यात गायिका और अभिनेत्री सिंह को भिखारी ठाकुर सम्मान-2010 प्रदान किया जायेगा। यह भिखारी ठाकुर सामाजिक शोध संस्थान, भोजपुर, आरा द्वारा प्रदान किया जाता है। संस्थान के अध्यक्ष नरेन्द्र सिंह ने यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि यह सम्मान 27 मार्च की शाम आरा में आयोजित एक भव्य संगीत समारोह में प्रदान किया जायेगा।

प्रतिभा सिंह पिछले एक दशक से भोजपुरी गायकी में अपने गायन से अपना विशिष्ट स्थान बना पाने में कामयाब रही हैं। उनके एक दर्जन से अधिक कैसेट व सीडी जारी हुए हैं जिन्हें एचएमवी-सारेगामा, प्राइम, न्यू विक्टोरिया और स्काइ ने जारी किया है। हाल ही में उन्होंने अभिनय व पार्श्व गायन की दुनिया में कदम रखा है और 'भाई होखे त भरत नियन', 'बहिना तोहरे खातिर' आदि फिल्मों में काम किया है। कुछ और फिल्मों में वे गायन और अभिनय कर रही हैं जिनमें 'आई हो दादा' और 'माटी मांगे खून' प्रमुख हैं।
प्रतिभा बलिया जिले के रोहुआं-तिवारी गांव की रहने वाली हैं। उन्होंने शास्त्रीय संगीत की भी विधिवत तालीम ली है। देश भर में सैकड़ों स्टेज शो करने वाली प्रतिभा को इसके पहले आकांक्षा संस्कृति सम्मान मिला है। उनके कार्यक्रम व इंटरव्यू ईटीवी, महुआ, ताजा़ टीवी, अहिंसा, दूरदर्शन आदि पर भी आते रहे हैं।

रानी पद्मावती शौर्य सम्मान 2017 प्रतिभा सिंह को

साभारः प्रभात खबर साभारः दैनिक भास्कर साभारः आईनेक्स्ट साभारः हिन्दुस्तान